अक्षय नवमी: महिलाओं ने रांची गोशाला में गाय और आंवला पेड़ की पूजा कर मांगी सुख-समृद्धि


रांचीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • घरों और मंदिरों में हुई भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा
  • आयुर्वेद में आंवला को कहते हैं अमृत फल

रांची की गोशालाओं में शनिवार को आंवना नवमी की पूजा की गई। दिनभर महिलाओं ने गोशाला पहुंचकर पारंपरिक विधि-विधान के साथ आंवला नवमी की पूजा की। यह सिलसिला दिनभर जारी रहा। इस अवसर पर तुलादान करने पहुंचे सांसद संजय सेठ ने कहा कि गो हत्या पर प्रतिबंध लगे और गो हत्या करने वाले को फांसी की सजा होनी चाहिए, क्योंकि यह भी एक हत्या की तरह मामला बनता है।

गो तस्करी पर प्रशासन को सजग होकर कार्यवाही करनी चाहिए। गाय और गोवंश से करोड़ों हिंदुओं की आस्था जुड़ी है। गो माता में 33 करोड़ देवी-देवताओं का वास है। उन्होंने राज्य सरकार से आग्रह किया गो सेवा आयोग से मिलने वाली अनुदान राशि समय पर उपलब्ध कराई जाए, ताकि गोशाला पर आर्थिक खर्च का भार कम हो। राज्य सरकार का दायित्व बनता है कि आयोग से गोशालाओं को मिलने वाली राशि समय पर उपलब्ध होती रहे। मौके पर उपमंत्री प्रमोद सारस्वत कार्यकारिणी सदस्य बसंत कुमार गौतम, विजय छापडिया, अशोक प्रधान, संजय पोद्दार समेत काफी संख्या में गोशाला के गो सेवक उपस्थित थे।

सांसद ने गोशाला पहुंचकर किया तुलादान

गोपाष्टमी के दूसरे दिन शनिवार को सांसद संजय सेठ ने सुकरहुट्टू गोशाला पहुंचकर तुलादान किया। गोशाला के सर्वांगीण विकास के लिए सांसद फंड से गोशाला न्यास को 10 लाख रुपए देने का आश्वासन दिया। दूसरे दिन भी सैकड़ों गो भक्तों ने हरमू रोड स्थित गोशाला में गायों की पूजा कर उन्हें चारा खिलाया।

गोशाला न्यास द्वारा शहर में आठ स्थानों पर गोशाला से गाय और बछड़े पहुंचाए गए। महोत्सव में उपाध्यक्ष प्रेम अग्रवाल, मंत्री प्रदीप राजगढ़िया, उप मंत्री प्रमोद सारस्वत, सुरेश जैन, कोषाध्यक्ष दीपक पोदार, संयोजक बसंत कुमार गौतम आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here