भारत-चीन तनाव के बीच हॉन्गकॉन्ग ने दी कोवैक्सीन को मंजूरी, अब तक 96 देशों से मिला अप्रूवल


हॉन्गकॉन्ग. भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद (India China Dispute) के बीच दो देशों ने तगड़ा झटका देते हुए मेड इन इंडिया कोरोना रोधी टीके को अपने देश में मंजूरी दे दी है. इन दोनों देशों से चीन की लंबे समय से तनातनी रही है. दरअसल, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा अप्रूवल मिलने के बाद अब मेड इन इंडिया वैक्सीन Covaxin को दुनिया के अलग-अलग देश मान्यता दे रहे हैं. इसी क्रम में कई विकसित देशों के बाद अब हॉन्गकॉन्ग ने भी मान्यता दे दी है. समाचार एजेंसी ANI ने हॉन्गकॉन्ग सरकार के सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि भारत बायोटेक निर्मित कोवैक्सीन अब हॉन्गकन्ग में मान्यता प्राप्त COVID19 टीकों की सूची में है. अब तक 96 देशों ने कोवैक्सीन और कोविशील्ड को मान्यता दी है. इन दोनों COVID-19 टीकों को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की आपातकालीन उपयोग सूची (EUL) में है. इससे पहले वियतनाम ने भी Covaxin को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है. हॉन्गकॉन्ग में रूस निर्मित स्पूतनिक V, भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा परीक्षित कोविशील्ड, चीन द्वारा निर्मित सिनोफार्म को भी मान्यता दी है.

ब्रिटेन 22 नवंबर से देगा अनुमति
गौरतलब है कि ब्रिटेन सरकार ने कहा कि भारत के कोवैक्सीन टीके को अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए स्वीकृत कोविड-19 रोधी टीकों की सूची में 22 नवंबर को शामिल किया जाएगा. इसका मतलब यह हुआ कि जिन लोगों ने भारत बायोटेक द्वारा निर्मित Covaxin की दोनों खुराक ली हैं, उन्हें ब्रिटेन आने के बाद आइसोलेशन में नहीं रहना होगा.

यह भी पढ़ें: यूके-यूएस में कोवैक्सिन को मंजूरी, जानें अब कितने देशों की यात्रा कर सकते हैं भारतीय

WHO , Covaxin को आपात स्थिति में इस्तेमाल के लिए स्वीकृत टीकों की सूची (ईयूएल) में पहले ही शामिल कर चुका है, जिसके बाद ब्रिटेन ने यह कदम उठाया है. भारत में निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोविड-19 रोधी टीके कोविशील्ड को ब्रिटेन में स्वीकृत टीकों की सूची में पिछले महीने शामिल किया गया था.

भारत के लिए ब्रितानी उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘ब्रिटेन आने वाले भारतीय यात्रियों के लिए अच्छी खबर है. कोवैक्सीन समेत डब्ल्यूएचओ की आपात सूची में शामिल कोविड-19 रोधी टीके लगवा चुके यात्रियों को 22 नंवबर से आइसोलेशन में नहीं रहना होगा.’ यह फैसला 22 नवंबर तड़के चार बजे से लागू होगा. Covaxin के अलावा डब्ल्यूएचओ के ईयूएल में शामिल चीन के ‘सिनोवैक’ और ‘सिनोफार्म’ टीकों को भी ब्रिटेन सरकार के मान्यता प्राप्त टीकों की सूची में शामिल किया जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here