10 दिन की छुटि्टयों के बाद स्कूल खुले: शहर में डेंगू के कारण 25%, गांवों में फसल कटाई होने से 15% स्टूडेंट्स ही पहुंचे


बीकानेर4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय कोरिया का बास नंबर वन।

दीपावली की छुट्टियों के 10 दिन बाद सोमवार से बच्चों के स्कूल शुरू हुए। हालांकि पहले दिन शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति काफी कम रही। शहरी क्षेत्र के स्कूलों में जहां 25 फीसदी से कम स्टूडेंट्स पहुंचे। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में यह उपस्थिति 15 से 10 फीसदी ही रही। ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादातर बच्चे इन दिनों खेतों में अपने अभिभावकों के साथ ग्वार की कटाई में लगे हुए हैं।

उधर, कोरोना गाइडलाइन के मुताबिक कक्षा-कक्ष की क्षमता के मुकाबले 50 फीसदी स्टूडेंट्स को बुलाने के निर्देश शिक्षा विभाग ने संस्था प्रधानों को दे रखे हैं। दीपावली की छुट्टियों के बाद 100% उपस्थिति के साथ बच्चों को बुलाने की संभावनाएं जताई जा रही थी। लेकिन जब सोमवार को भास्कर ने स्कूलों का सर्वे किया तो सामने आया कि स्टूडेंट्स की उपस्थिति 25% से भी कम रही।

उधर, शिक्षकों का कहना है अगले सप्ताह तक स्टूडेंट्स की उपस्थिति बढ़ने की संभावना है। स्टूडेंट्स कम आने के कारण टीचर्स भी 12 नवंबर को होने वाले नेशनल अचीवमेंट सर्वे की तैयारियों में जुटे हुए रहे। वहीं कुछ शिक्षकों ने सेकंड टेस्ट की कॉपियों को चेक करने का काम पूरा किया।

कोरोना से बड़ा अब डेंगू का डर
कोरोना के चलते पिछले डेढ़ साल से स्कूली बच्चों का शिक्षण कार्य प्रभावित हो रहा था। कोरोना के खत्म होने के बाद सितंबर से पहली से 12वीं कक्षा के बच्चों के स्कूल खोल दिए गए। लेकिन एहतियात के तौर पर फिलहाल 50% उपस्थिति के साथ ही बच्चों को बुलाया जा रहा है। उधर, बीकानेर में अब डेंगू के केस बढ रहे है। जिसके चलते अभिभावक स्कूलों में बच्चों को भेजने से कतरा रहे है।

  • स्कूल में 230 बच्चों का नामांकन है। लेकिन सोमवार को 45 बच्चे ही स्कूल पहुंचे। -दीपक जोशी, संस्था प्रधान, राजकीय उच्च प्राथमिक स्कूल जेलवैल
  • स्कूल में 152 बच्चों का नामांकन है। कोरोना गाइडलाइन के मुताबिक कक्षा कक्ष की क्षमता से 50 फीसदी स्टूडेंट्स को ही बुला रहे हैं। सोमवार को 25 फीसदी स्टूडेंट्स स्कूल पहुंचे। -वीरेंद्र सिंह चौधरी, संस्था प्रधान, राउप्रावि कोरियों का बास नंबर वन

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here