इन 5 त्योहारों पर रोटी बनाना अशुभ माना जाता है, विशेष विच्छेद की परंपरा, शास्त्रों से जुड़ा हुआ संबंध है

0
3


डोमेन्स

माता लक्ष्मी के त्योहारों पर घर में रोटी नहीं बनानी चाहिए।
इन सभी त्योहारों में दीपावली का पर्व भी शामिल होता है।

कब नहीं बनाएं रोटी : हिंदू धर्म में माना जाता है कि किचन में धन-धान्य की कमी ना हो इसके लिए माता अन्नपूर्णा की कृपा होती है। मां अन्नपूर्णा की कृपा पाने के लिए लोग दिन-रात कड़ी मेहनत भी करते हैं, ताकि परिवार का पेट भर सके। भारत वर्ष में हर घर में खाने में प्रमुख भोजन होता है रोटी। बिना रोटी के भोजन अधूरा सा लगता है लेकिन धर्म पुराणों के अनुसार कुछ ऐसे दिन भी होते हैं जिनमें रोटी बनाने की मनाही होती है। आपने एकादशी के दिन चावल ना बनाने के बारे में सुना होगा लेकिन आज हम भोपाल निवासी हैं ज्योतिष एवं ऋक्सिक्ट सलाह पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा बता रहे हैं ऐसे 5 स्टेप जब रोटी नहीं बनानी चाहिए।

नागपंचमी

हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार नाग पंचमी के दिन अपने घर की रसोई में रोटी नहीं बनानी चाहिए। इस दिन पूरा और हलवा खाना चाहिए। माना जाता है कि नाग पंचमी के दिन चूल्हे पर तवा रखना शुभ नहीं होता है। तवे को नाग के फन का प्रतिरूप माना जाता है। इसलिए नागपंचमी के दिन तवे को अग्नि पर नहीं रखा जाता।

यह भी पढ़ें – क्या आपने भी पाल रखा है तोता? कम होता है राहु-केतु, शनि का प्रभाव, कभी शुभ तो कभी अशुभ होते हैं परिणाम

शीतलाष्टमी

शीतलाष्टमी के दिन माता शीतला देवी की पूजा करने का विधान है। प्रवासन के अनुसार इस दिन माता को बासी भोजन का भोग निर्धारण करना चाहिए। मां को भोग लगाने के बाद खुद भी बासी खाना ही ग्रहण करना चाहिए। इस दिन सूर्योदय से पहले ही माता को बासी भोजन का भोग लगाया जाता है और इसे प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता है। शीतलाष्टमी के दिन घर में नए व्यंजन बनाने की मनाही होती है साथ ही इस दिन रोटी भी नहीं बनाई जाती है।

पूर्णिमा

हिंदू धर्म शास्त्रों में बताया गया है कि शरद पूर्णिमा के दिन भी घर में रोटी नहीं बनानी चाहिए। इस दिन चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से दक्ष होता है। इस दिन शाम के समय खेर के रहने वाले चांद की रोशनी में रहता है और अगले दिन सुबह इसे प्रसाद के रूप में ग्रहण करता है। चांद की रौशनी में खाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। इसलिए इस दिन भी घर पर रोटी नहीं बनाई जाती है।

मां लक्ष्मी का त्योहार

हिंदू धर्म शास्त्रों में बताया गया है कि माता लक्ष्मी से संबंधित जो भी त्योहार आते हैं उस दिन घर में रोटी नहीं बनानी चाहिए। इन सभी त्योहारों में दीपावली का पर्व भी शामिल होता है। इस दिन सात्विक भोजन पूरी, मिठाई, हलवा आदि खाने की आदत डालनी चाहिए और इस दिन घर में रोटी बनाने से बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें – लगातार आ रहे हैं बुरे सपने, अपनाएं ज्योतिष शास्त्र के 4 उपाय, हमेशा के लिए दूर हो जाएंगे

मृत्यु होने पर

हिंदू धर्म शास्त्रों में बताया गया है कि जिस व्यक्ति की घर में मृत्यु हो जाती है, उस दिन भी घर में रोटी नहीं बनानी चाहिए। हिंदू धर्म में तेरहवीं संस्कार का विधान है। ऐसा माना जाता है कि तेरहवीं संस्कार के बाद ही घर में रोटियां बनानी चाहिए।

टैग: ज्योतिष, धर्म आस्था, धर्म, वास्तु, वास्तु टिप्स



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here